सब दिखावा है, छलावा है

                      सब दिखावा है, छलावा है

                                            बयाँ करना प्यार अपनो के प्रती

                                            धोखा है, मिलावटी है

 

                                                                                         इंसानियत और संस्कारों की कदर नही

                                                                                         सब माया पैसों की है

                                                                                         वाहवा उसकी है

                                                                                         जो जितना घूमे ऊँची गाड़ियों मे

                                                                                         पहने रेशमी चोले है

 

                                          मरने के बाद बड़े करते है

                                          माँबाप के नाम पर दानधरम

                                          वो खिलाना कौव्वों को बुलाबुलाकर

                                          पूरी, हलवा और पूरन

                                          जब जिंदा होते है,

                                          ना देना उनको निवाला, ना लेना खैरखबर

                                          सब दिखावा है, छलावा है

 

                                                                                          जो बाते जितनी झूठ करे

                                                                                          या बड़े से बड़ा गबन करे

                                                                                          ये अपराध नही चतुराई है

 

                                        किसी का अपने को लेनादेना क्या ?

                                        ऐसा मानने में ही लोगो की भलाई है

                                        सब दिखावा है, छलावा है